Liver Ko Kaise Thik Kare

Liver ko kaise thik kare gharelu upay: लीवर हमारे शरीर का एक महत्वपूर्ण अंग है। यह हमारे शरीर में खाना पचाने से लेकर पित्त बनाने तक का काम करता है।

लीवर शरीर को संक्रमण से लड़ने, रक्त शर्करा को नियंत्रित करने, शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालने, वसा को तोड़ने और प्रोटीन बनाने में मदद करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

अत्यधिक शराब का सेवन, शराब पीना और अनुचित मात्रा में वसायुक्त खाद्य पदार्थ खाने से Fatty Liver in hindi जैसी बीमारियां हो सकती हैं। फैटी लीवर का इलाज आप घर पर ही कर सकते हैं।

फैटी लीवर क्या है? Liver Ko Kaise Thik Kare

सबसे पहले जानते हैं कि लीवर क्या है। लीवर की कोशिकाओं में अतिरिक्त चर्बी जमा हो जाती है। लीवर में वसा की कुछ मात्रा होना सामान्य है, लेकिन फैटी लीवर रोग तब होता है जब वसा की मात्रा लीवर के वजन के दस प्रतिशत से अधिक हो जाती है।

ऐसे में लीवर सामान्य रूप से काम करने में असमर्थ हो जाता है और कई तरह के लक्षण दिखाई देने लगते हैं। इसके बाद फैटी लीवर का आयुर्वेदिक इलाज करना चाहिए।

आमतौर पर इसके लक्षण (फैटी लिवर के लक्षण) देर से दिखाई देते हैं, लेकिन लिवर में अतिरिक्त चर्बी का जमा होना लंबे समय तक हानिकारक हो जाता है।

यह आमतौर पर 40-60 साल की उम्र के बीच होता है। आयुर्वेद में कहा गया है कि यकृत पित्त से संबंधित है, अर्थात पित्त के प्रदूषण के कारण यकृत रोगग्रस्त हो जाता है ।

दूषित पित्त फैटी लीवर जैसी बीमारियों को जन्म देता है। गलत खान-पान से लीवर में टॉक्सिन्स जमा होने लगते हैं, जिससे लीवर को सामान्य से ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है। इससे लीवर में सूजन आ जाती है, जिसके लिए फैटी लीवर के इलाज की जरूरत होती है।

Fatty liver  के प्रकार

एल्कोहलिक फैटी लीवर रोग यह उन लोगों में होता है जो बहुत अधिक शराब का सेवन करते हैं। अत्यधिक शराब का सेवन लीवर में चर्बी जमा होने के कारणों में से एक है। अत्यधिक शराब के सेवन से लीवर में सूजन हो सकती है और लीवर खराब हो सकता है

नॉनअल्कोहलिक फैटी लीवर डिजीज (NAFLD)- उच्च वसा वाले आहार और अनुचित जीवनशैली के कारण व्यक्ति में मोटापा और मधुमेह की समस्या शुरू हो जाती है, जो फैटी लीवर का एक प्रमुख कारण है। अगर आप शराब नहीं पीते हैं तो भी इस स्थिति में फैटी लीवर होने की संभावना अधिक होती है।

Causes of Fatty liver in Hindi

फैटी लीवर का इलाज करने के लिए फैटी लीवर का कारण जानना जरूरी है। तो फैटी लीवर को रोकने के लिए सबसे पहले उन सामान्य कारणों को जानना जरूरी है, जो बच्चों के साथ-साथ वयस्कों में भी होने की संभावना को रोक सकते हैं, साथ ही शारीरिक स्थिति को नियंत्रित करने के लिए घरेलू उपचार का उपयोग किया जा सकता है। फैटी लीवर के सामान्य कारण निम्नलिखित हैं:

  • अत्यधिक शराब पीना
  • वंशागति
  • मोटापा
  • वसायुक्त भोजन और मसालेदार भोजन खाना
  • उच्च रक्त वसा
  • मधुमेह या मधुमेह
  • स्टेरॉयड, एस्पिरिन या ट्रेसिलिन जैसी दवाओं का दीर्घकालिक उपयोग
  • पीने के पानी में बहुत अधिक क्लोरीन
  • जिगर की जहरीली सूजन

Fatty Liver Symptoms in Hindi

इसी तरह, यदि आप फैटी लीवर का इलाज करना चाहते हैं, तो आपको शुरुआती चरण में फैटी लीवर के लक्षणों को समझने की जरूरत है।

लेकिन यह मुश्किल है क्योंकि बहुत कम लोग फैटी लीवर के लक्षणों के बारे में जानते हैं, इसलिए शारीरिक स्थिति बहुत खराब होने के बाद इस बीमारी का निदान किया जाता है। आइए जानते हैं कुछ सामान्य लक्षणों के बारे में-

  • ऊपरी दाहिने पेट में दर्द
  • वजन कम करना
  • कमज़ोर महसूस
  • आंखों और त्वचा का पीला पड़ना
  • खाना ठीक से नहीं पचता जिससे एसिडिटी हो जाती है
  • उदरीय सूजन

Home remedies For liver Treatment in hindi

Fatty Liver Ayurvedic इलाज: भारत ही नहीं पूरी दुनिया में लोग आयुर्वेदिक इलाज में विश्वास करते हैं। फैटी लीवर रोग के लिए आयुर्वेदिक उपचार भी हैं।

फैटी लीवर का आयुर्वेदिक इलाज डाइट के जरिए किया जाता है। फैटी लीवर की आयुर्वेदिक दवाएं भी उपलब्ध हैं। आइए जानते हैं लीवर के आयुर्वेदिक इलाज के लिए कुछ खाद्य पदार्थ और पेय पदार्थ।

प्याज से फैटी लीवर का इलाज

आयुर्वेद कहता है कि प्याज का इस्तेमाल फैटी लीवर के इलाज के लिए किया जा सकता है। आयुर्वेद का मानना है कि फैटी लीवर के मरीजों को प्याज का सेवन करना चाहिए। फैटी लीवर की बीमारी के मरीजों को दिन में दो बार प्याज खाना चाहिए। फैटी लीवर के लिए कच्चा प्याज खाना फायदेमंद होता है।

आंवले का सेवन

अगर आप फैटी लीवर की बीमारी से पीड़ित हैं तो आंवले का सेवन जरूर करें। आमलकी का जूस ज्यादा फायदेमंद होता है। कच्चे आमलकी के नियमित सेवन से फैटी लीवर की समस्या दूर हो जाती है।

हरी चाय

ग्रीन टी लीवर के लिए अच्छी होती है। ग्रीन टी पीने से लीवर की चर्बी कम होने के साथ-साथ चर्बी जमा होने से रोकने में मदद मिलती है। दिन में दो कप ग्रीन टी पीने से लीवर स्वस्थ रहता है।

सेब साइडर सिरका

एप्पल साइडर विनेगर को आमतौर पर एप्पल साइडर विनेगर के नाम से जाना जाता है। सेब का सिरका सेहत के लिए अच्छा होता है। इसे खाने से लीवर मजबूत होता है और चर्बी नहीं बढ़ती है।

रोजाना एक गिलास पानी में 1 चम्मच एप्पल साइडर विनेगर मिलाएं। सेब के सिरके का सेवन लीवर की कार्यप्रणाली को बेहतर करने का काम करता है

नींबू

लीवर को स्वस्थ रखने के अलावा नींबू शरीर के लिए भी कई फायदे हैं। अगर आप शराब पीते हैं तो नींबू का सेवन जरूर करें। रोज सुबह एक गिलास पानी में एक नींबू का रस मिलाकर पीने से फैटी लीवर की समस्या से छुटकारा मिल सकता है।

लौकी

करेला शरीर से विषाक्त पदार्थों को निकालता है। करेला खाने से शरीर की पाचन प्रक्रिया में सुधार के साथ-साथ शुगर लेवल को भी नियंत्रित रखने में मदद मिलती है। हफ्ते में कम से कम 2 दिन करेले को रोजाना के आहार में शामिल करना चाहिए।

Prevention Tips for Fatty Liver in Hindi

फैटी लीवर (Liver Ko Kaise Thik Kare) से बचने के कुछ उपाय इस प्रकार हैं।

  • शारीरिक पोषण का ध्यान रखने से मोटापा कम होता है।
  • आहार और दवा दोनों के माध्यम से ट्राइग्लिसराइड का स्तर कम करें।
  • एल्कोहॉल से दूर रहें।
  • मधुमेह की समस्या को नियंत्रित करें।
  • संतुलित और स्वस्थ आहार का सेवन करें।
  • शारीरिक गतिविधि पर ध्यान दें।
  • अपने डॉक्टर से लगातार संपर्क में रहें।
  • वजन संतुलन बनाए रखें।

निष्कर्ष – Liver Ko Kaise Thik Kare

अब आप फैटी लीवर की समस्या, लक्षण और उपचार के बारे में अच्छी तरह जान गए होंगे। इस लेख में आपको इस समस्या से छुटकारा पाने के कई घरेलू उपायों के बारे में बताया गया है।

साथ ही लेख के माध्यम से इसके निदान और रोकथाम के विस्तृत तरीकों का भी सुझाव दिया गया है। ऐसे में अगर कोई फैटी लीवर की समस्या से जूझ रहा है, तो पढ़ें और फिर लेख में दी गई फैटी लीवर और अन्य सभी जानकारी के लिए घरेलू उपचार लागू करें।

यहाँ और पढ़ें : Cholesterol Kam Karne Ke Upay Kya Hai

Uric Acid Kam Karne Ke Upay – यूरिक एसिड क्या है?

Jukam Ko Thik Karne Ke Gharelu Nuskhe

Leave a Reply

Your email address will not be published.