Jukam Ko Thik Karne Ke Gharelu Nuskhe

Sardi jukam ko thik karne ke gharelu upay: बदलते मौसम के साथ सर्दी-खांसी सामान्य है। यह एक ऐसी समस्या है जो किसी को भी हो सकती है। सर्दी आमतौर पर कुछ दिनों में अपने आप ठीक हो जाती है, लेकिन कभी-कभी यह अधिक समय तक रह सकती है।

इस स्थिति में बहुत से लोग दवा लेते हैं, जिससे ठीक होने पर भी सर्दी वापस आ सकती है। कई बार सर्दी जानलेवा भी हो जाती है। ऐसे में अगर समय पर घरेलू नुस्खों से सर्दी-जुकाम का इलाज किया जाए तो जल्दी आराम मिल जाता है।

इसलिए इस लेख में हम आपको सर्दी-जुकाम के सामान्य घरेलू उपचार, सर्दी-जुकाम के सामान्य कारण और सामान्य सर्दी-जुकाम के लक्षणों के बारे में बताने जा रहे हैं।

सर्दी जुकाम (Sardi jukam ko thik) क्या है ?

सामान्य सर्दी को वायरल राइनाइटिस भी कहा जाता है। यह मनुष्यों में सबसे आम संक्रमण है। यह संक्रमण अपर रेस्पिरेटरी ट्रैक्ट यानी ऊपरी श्वसन तंत्र में होता है।

सामान्य सर्दी राइनोवायरस के कारण होती है, जिनमें से 200 से अधिक प्रकार हैं। इस दौरान नाक बहना और छींक आना आम बात है।

Causes of Common Cold in Hindi

सर्दी-जुकाम के कई कारण हो सकते हैं, और इनके बारे में जागरूक होने से सावधानी बरतने में आसानी हो सकती है। हम नीचे इन कारकों का वर्णन करते हैं।

  • यह एक संक्रामक रोग है, जो कोरोना वायरस के कारण हो सकता है।
  • किसी संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से भी सर्दी-जुकाम हो सकता है।
  • बैक्टीरिया एक संक्रमित व्यक्ति के छींकने के माध्यम से हवा के संपर्क में आने के कारण फैलता है।
  • संक्रमित व्यक्ति ने जिन चीजों को छुआ है, उन्हें छूने से भी सर्दी-जुकाम हो सकता है।
  • कुछ लोगों को मौसम बदलने पर भी जुकाम हो सकता है।
  • जब प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होती है, तो यह कमजोर हो सकती है।
  • ठंडा या गीला होना भी सर्दी का कारण बन सकता है।

Symptoms of Common Cold in Hindi

इसके कुछ लक्षण जुकाम के पहले और बाद में दिखने लगते हैं। ऐसे में इन लक्षणों को ध्यान में रखते हुए और घरेलू उपायों को अपनाकर इस समस्या के प्रभाव को कम किया जा सकता है। आइए जानते हैं सर्दी-जुकाम के लक्षण।

  • बार-बार छींक आना
  • बंद नाक
  • जुकाम
  • गला खराब होना
  • खाँसी
  • गले में बलगम
  • नम आँखें
  • बुखार
  • कुछ सूंघने में परेशानी
  • सरदर्द
  • मांसपेशियों में दर्द
  • भूख में कमी

Jukam Ko Thik Karne Ke Gharelu Nuskhe

शहद चाय

खांसी के लिए एक लोकप्रिय घरेलू उपाय गर्म पानी में शहद मिलाकर पीना है। कुछ अध्ययनों के अनुसार शहद खांसी को दूर कर सकता है।

बच्चों में रात में होने वाली खांसी के इलाज पर एक अध्ययन किया गया। तदनुसार, डार्क शहद की तुलना कफ सप्रेसेंट डेक्सट्रोमेथोर्फन से की गई। शोधकर्ताओं ने बताया कि शहद खांसी से सबसे ज्यादा राहत देता है, इसके बाद डेक्स्ट्रोमेथोरफान आता है।

खांसी के इलाज में असरदार, 2 चम्मच शहद को गर्म पानी या किसी हर्बल चाय में मिलाकर इस शहद की चाय बनाएं। इस मिश्रण को दिन में एक या दो बार पियें। 1 साल से कम उम्र के बच्चों को शहद न दें।

नमकपानी के गरारे

गले की खराश और गीली खांसी के इलाज में यह आसान उपाय सबसे कारगर है। नमक का पानी गले के पिछले हिस्से में कफ और बलगम को कम करता है, जिससे खांसी ठीक हो सकती है।

एक कप गर्म पानी में आधा चम्मच नमक तब तक मिलाएं जब तक वह घुल न जाए। गरारे करने के लिए उपयोग करने से पहले घोल को थोड़ा ठंडा होने दें।

बाहर थूकने से पहले मिश्रण को गले के पिछले हिस्से में कुछ देर के लिए छोड़ दें। खाँसी दूर होने तक दिन में कई बार नमक के पानी से गरारे करें।

छोटे बच्चों को नमक का पानी देने से बचें क्योंकि वे ठीक से गरारे नहीं कर सकते हैं और नमक का पानी निगलना खतरनाक हो सकता है।

अजवायन के फूल

अजवायन के औषधीय और औषधीय दोनों उपयोग हैं और यह खांसी, गले में खराश, ब्रोंकाइटिस और पाचन समस्याओं के लिए एक सामान्य उपाय है। एक अध्ययन में पाया गया कि अजवायन के फूल और आइवी युक्त कफ सिरप ब्रोंकाइटिस वाले लोगों में खांसी से प्रभावी ढंग से और जल्दी राहत देता है।

इसके पौधे में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट इसके फायदों के लिए जिम्मेदार हो सकते हैं। अजवायन के फूल की खांसी को ठीक करने के लिए एक कप गर्म पानी में 2 चम्मच सूखे अजवायन की चाय मिलाकर अजवायन की चाय बनाएं। चाय बनाने के बाद इसे 10 मिनट के लिए रख दें और फिर छानकर पी लें।

अदरक

अदरक सूखी खांसी या दमा की खांसी को कम कर सकता है, क्योंकि इसमें सूजन-रोधी गुण होते हैं। यह दर्द से राहत दिला सकता है। एक अध्ययन से पता चलता है कि अदरक में कुछ विरोधी भड़काऊ गुण होते हैं जो गले को शांत कर सकते हैं, जिससे खांसी कम हो जाती है।

इसे बनाने के लिए एक कप गर्म पानी में 20-40 ग्राम (g) ताजे अदरक के स्लाइस को उबालकर अदरक की चाय बना लें। पीने से पहले कुछ मिनट के लिए छोड़ दें।

स्वाद में सुधार और खांसी को शांत करने के लिए शहद या नींबू का रस मिलाएं। ध्यान दें कि अदरक की चाय कुछ मामलों में पेट खराब या नाराज़गी पैदा कर सकती है।

हल्दी दूध

हल्दी लगभग सभी भारतीय रसोई में पाया जाने वाला एक आवश्यक घटक है। हल्दी में एक शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट होता है जो कई स्वास्थ्य समस्याओं का इलाज करने में मदद करता है।

गर्म दूध में हल्दी मिलाकर पीना सर्दी-खांसी से लड़ने का एक लोकप्रिय और प्रभावी तरीका है। रात को सोने से पहले एक गिलास गर्म हल्दी वाला दूध पीने से सर्दी जुकाम जल्दी ठीक हो जाता है।

Prevention Tips (Jukam Ko Thik ) for Common Cold in Hindi

सर्दी जुकाम से बचना काफी आसान है। इसके लिए निम्न तरीके अपनाए जा सकते हैं।

  • नाक बहने के बाद और बाथरूम का उपयोग करने से पहले और खाने से पहले अपने हाथों को अच्छी तरह धो लें
  • अपने आसपास साफ-सफाई रखें।
  • समय-समय पर हैंड सैनिटाइजर का इस्तेमाल करें। यह सर्दी पैदा करने वाले कीटाणुओं को फैलने से रोक सकता है।
  • किसी और को अपने कपड़े और तौलिये का इस्तेमाल न करने दें।
  • दूसरे लोगों के सामान का इस्तेमाल भी न करें।
  • जिन लोगों को सर्दी-जुकाम है, उनसे दूरी बनाकर रखेंजब तक वे ठीक नहीं हो जाते।
  • Jukam Ko Thik Karne के लिए कम से कम 7 घंटे की नींद जरूर लें।
  • इससे बचने के लिए नियमित व्यायाम जरूरी है।

यहाँ और पढ़ें : Pet Dard Ke Gharelu Nuskhe In Hindi

Fiber Rich Foods in Hindi

Star Anise in Hindi और इसके स्वास्थ्य लाभ

Leave a Reply

Your email address will not be published.