Ling Ki Kamzori Kaise Dur Kare – नसों की कमजोरी का इलाज

Ling ki kamzori kaise dur kare – लिंग की नसों का कमजोर होना आजकल एक आम समस्या हो गई है। लगभग 50% युवाओं को नसों की कमजोर होने की समस्या होती है।

तो इस लेख में हम विस्तार से चर्चा करेंगे कि लिंग कमजोर क्यों होता है। कई बार गलत व्यायाम या वजन बढ़ने या किसी अन्य कारण से हमारे शरीर की नसों में दर्द होने लगता है और दर्द शरीर के उस हिस्से में शुरू हो जाता है जहां हमारा खून उस अंग तक नहीं पहुंचता है।

जिससे वह कमजोर होने लगता है। ऐसे में हम किसी अच्छे डॉक्टर की मदद से या घर बैठे ही इस समस्या का समाधान खुद ही कर सकते हैं।

Ling ki kamzori, लिंग की कमजोरी, ढीलेपन की दवा, ढीलापन दूर करने की दवा, तनाव की आयुर्वेदिक दवा, तनाव की दवा, जोश बढ़ाने की दवा

Ling Ki Kamzori Ke Lakshan – नसों के कमजोर होने के लक्षण

यदि आपके शरीर में नसें कमजोर हैं, तो शरीर पर उस प्रभाव की पहचान करना महत्वपूर्ण है जो उचित उपचार में सहायता करता है।

अगर आपकी याददाश्त कमजोर होने लगे तो समझ लें कि आपकी नसें कमजोर होने लगी हैं।

चक्कर आना इस बात का भी संकेत है कि आपकी नसें कमजोर हैं क्योंकि रक्त संचार नहीं कर सकता है।

जब शरीर में रक्त का संचार ठीक से नहीं हो पाता तो आंखों के सामने अंधेरा छाने लगता है।

अपच भी एक लक्षण है।

अनिद्रा आपकी नसों की कमजोरी का भी संकेत देती है।

दिल की धड़कन

शरीर में खून की कमी होना।

यहाँ और पढ़ें : mala-d-tablet-kaise-use-kare

यहाँ और पढ़ें : mala-n-tablet-in-hindi

Ling Ki Kamzori Ke Liye Gharelu Upchar – नसों की कमजोरी के घरेलू उपाय

न्यूरोपैथी – न्यूरोपैथी के लिए उपचार शब्द है, जो विभिन्न प्रकार के तंत्रिका संबंधी विकारों को परिभाषित करता है। यह विकार आपके शरीर के एक या अधिक भागों को प्रभावित करता है और नसों को कमजोर करता है। हालाँकि, कुछ मामलों में समस्या अस्थायी हो सकती है, दूसरों में यह आजीवन हो सकती है।

  1. ठंडी सिकाई – cold compress

गर्म सेक के मामले में, ठंडा सेक कम आराम देता है लेकिन यह नसों के दर्द को कम करने में बहुत प्रभावी है, त्वचा पर एक सुन्न प्रभाव पड़ता है जो दर्द से राहत देता है मैं आपको बताता हूं, बर्फ एक विरोधी भड़काऊ के रूप में कार्य करता है और सूजन को कम करता है। शीत संपीड़न नसों को सुन्न करता है, लेकिन यह नसों को भी मजबूत बनाता है। अगर किसी पर हॉट कंप्रेस का असर नहीं होता है तो वह कोल्ड कंप्रेस कर सकता है। इसका उपयोग आवश्यक सामग्री में बर्फ और कपड़े के छोटे टुकड़ों के साथ किया जा सकता है।

  1. गर्म सिकाई – hot compress

दर्द और सूजन की स्थिति में गर्म सेक बहुत राहत देता है। अनुभव भी काफी सुकून देने वाला है। गर्म संपीड़न तंत्रिका दर्द को कम करता है और उन्हें मजबूत करता है। हमारे शरीर के गर्म संकुचन से नसों को काफी आराम मिलता है। हॉट कंप्रेस को कई तरह से किया जा सकता है। एक कंटेनर में आवश्यक सामग्री के साथ गर्म पानी और एक कपड़ा या एक गर्म पट्टी लें।

  1. Ling Ki Kamjori ka ilaj hai Green Tea

वैसे तो ग्रीन टी के कई फायदे होते हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि यह स्वस्थ तंत्रिका तंत्र के लिए भी बहुत अच्छा होता है। इसमें L-thananin नाम का एक तत्व होता है जो दिमाग के स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद माना जाता है। साथ ही ग्रीन टी तनाव संबंधी विकारों को ठीक करने में मदद करती है। इसकी आवश्यक सामग्री में एक ग्रीन टी बैग, एक कप गर्म पानी और शहद शामिल हैं।

  1. Ling Ki Kamzori ko Karein Chamomile Tea

कैमोमाइल चाय स्वास्थ्यप्रद पेय में से एक है और इसे हर्बल चाय के बीच भी बहुत लोकप्रिय माना जाता है। कैमोमाइल मूल रूप से एक जड़ी बूटी है जो फूलों से ली जाती है। कैमोमाइल चाय के फायदों के बारे में सभी को पता होना चाहिए। कैमोमाइल चाय बनाने के लिए फूलों को पहले सुखाया जाता है और फिर गर्म पानी में भिगोया जाता है। सामग्री में एक या दो चम्मच सूखे कैमोमाइल, एक कप पानी, स्वाद के लिए शहद शामिल हैं।

Ling Ki Kamzori Kaise Dur Kare
Ling Ki Kamzori Kaise Dur Kare
  1. Ashwagandha Hai ling Mein Kamjori ka Desi ilaj

अश्वगंधा हमारे शरीर को गर्मी, ऊर्जा और शक्ति प्रदान करती है, जिससे तंत्रिकाओं की कार्य करने की क्षमता में सुधार होता है। आयुर्वेद में इसके पत्तों से ज्यादा इसकी जड़ का इस्तेमाल किया जाता है। इसकी जड़ों में ऐसे गुण होते हैं जो नर्वस सिस्टम को बेहतर बनाते हैं। सामग्री में एक चम्मच सहिजन पाउडर और एक गिलास दूध या एक गिलास पानी शामिल हैं।

Ling ki kamjori Ka Gharelu Upay Hai Sendha Namak

साधारण नमक की तुलना में सेंधा नमक कई गुना ज्यादा फायदेमंद होता है। सेंधा नमक सूजन को कम करता है और मांसपेशियों और तंत्रिकाओं के बीच अच्छा संतुलन बनाए रखता है। इसमें मैग्नीशियम और सल्फेट होते हैं जो इसके गुणों के मुख्य स्रोत हैं। सेंधा नमक के पानी से नहाने से नसों और मांसपेशियों की कमजोरी दूर होती है। इसके लिए सामग्री में एक कप सेंधा नमक और एक बाल्टी पानी शामिल है।

ling ki kamzori kaise dur kare – नसों की कमज़ोरी का इलाज

शरीर में इनमें से कोई भी लक्षण दिखने पर नसों में बहुत तेज दर्द होता है, जो एक समस्या बन जाती है। तो आइए जानते हैं नसों के दर्द से छुटकारा पाने के कुछ आसान घरेलू उपाय, जिनका सही तरीके से पालन करने से निश्चित रूप से फायदा होगा।

अगर आपकी नसों में बहुत दर्द है तो आपको नियमित रूप से इसका व्यायाम करना चाहिए, जो नसों के लिए बहुत फायदेमंद होता है और इसमें लगे कीड़े भी धीरे-धीरे ठीक हो जाते हैं।

  • भ्रस्तिका प्राणायाम

स्नायविक रोगियों के लिए प्राणायाम भी फायदेमंद होती है। फायदे हैं, इसलिए रोजाना करें यह भ्रस्तिका प्राणायाम।

अनुलम विलोम प्राणायाम एक हाथ से तंत्रिका संबंधी समस्याओं को ठीक कर सकता है और यदि आप इसे लंबे समय तक करते हैं, तो रोग समाप्त हो जाएगा।

  • मसाज का सहारा

दर्द के लिए नसों पर दबाव डालने से तनाव दूर होता है और दर्द कम होता है। पूरे शरीर की मालिश सभी मांसपेशियों के साथ-साथ प्रभावित क्षेत्र को आराम देने में मदद करती है।

  • आयुर्वेद का साथ

100 ग्राम अश्वगंधा, 100 ग्राम सतावर, 100 ग्राम बहीपात्र, 100 ग्राम ईसबगल कुद्रो, 400 ग्राम तल्मिश्री का मिश्रण बनाकर सुबह-शाम दूध के साथ लें। यह लगभग एक महीने के प्रयोग के बाद शरीर की रक्त क्षमता को बढ़ाता है। और औषधि शक्ति आती है।

  • पुदीने का तेल

अगर आपकी नसों में बहुत दर्द हो रहा है तो प्रभावित जगह पर पुदीने का तेल से मालिश करें। इससे आपको नसों के दर्द से राहत मिलेगी।

  • सरसो का तेल

स्नायुशूल से छुटकारा पाने के लिए सरसो का तेल का उपयोग किया जा सकता है। सरसों के तेल को गर्म करके मसाज करें। ऐसा करने से आपको अवश्य ही लाभ होगा।

  • लेवेंडर का फूल

नहाने के पानी में लैवेंडर के फूल और सुइयां मिलाकर स्नान करें।

  • बेर की गुठलियां

नसों के संकुचन को दूर करने के लिए आपको गुड़ के साथ बेर की गिरी का सेवन करना चाहिए जो नसों को मजबूत करेगा और शरीर को मजबूत बनाएगा।

  • गाय का दूध

नसों की कमजोरी दूर करने के लिए आप गाय के दूध के साथ मक्खन, मिश्री भी खा सकते हैं, जिससे तंत्रिका संबंधी बहुत कमजोरी दूर होती है।

  • किशमिश

किशमिश खाने का अभ्यास करें। शरीर को अन्य लाभ देने के साथ-साथ यह नसों की कमजोरी का भी सबसे अच्छा इलाज है। लेकिन हां आप कोशिश करें कि इसे सिर्फ सर्दी के मौसम में ही इस्तेमाल करें।

यहाँ और पढ़ें : hair-fall-kaise-roke  ‎

kamar-dard-ka-gharelu-ilaj-in-hindi

pimple-kaise-hataye-gharelu-nuskhe

weight-loss-tips-in-hindi

chia-seeds-in-hindi

pregnancy-ke-lakshan-kitne-din-me-dikhte-hai

Leave a Reply

Your email address will not be published.