Ashokarishta Benefits in Hindi – फायदे और नुकसान

Ashokarishta ke benefits: हमारे देश में आयुर्वेदिक औषधि का प्रयोग प्राचीन काल से ही रोगों के उपचार के लिए किया जाता रहा है।

अशोकारिष्ट एक ऐसी जड़ी-बूटी है जिसका इस्तेमाल लोग आज तक करते आ रहे हैं। शीरा, घटली वृक्ष, मुस्ता, सफेद जीरा, जल तथा अशोकारिष्ट वृक्ष का अर्क मिलाकर अशोकारिष्ट के लाभ प्राप्त होते हैं।

अशोकारिष्ट स्त्री रोग संबंधी रोगों जैसे हार्मोनल असंतुलन, पेट दर्द, पीठ के निचले हिस्से में दर्द और मा*सिक *धर्म संबंधी विकारों में विशेष रूप से उपयोगी है।

आयुर्वेदिक टॉनिक के रूप में, डॉक्टर उनकी महिलाओं के दर्द के लिए अशोकारिष्ट सिरप की सलाह देते हैं। लोकप्रिय भारतीय ब्रांड डाबर, बैधानाथ, पतंजलि इस सिरप को बनाते हैं।

Ashokarishta Kya Hai in Hindi

अशोकारिष्ट एक आयुर्वेदिक औषधि है जो अशोकारिष्ट के पेड़ के अर्क को पानी, गुड़, धातकी (एक औषधीय पौधा), सफेद जीरा और मुस्ता (एक विशेष जड़ी बूटी) के साथ मिलाकर बनाई जाती है।

यह विशेष रूप से महिलाओं से संबंधित कुछ विकारों में प्रयोग किया जाता है। इन विकारों में अनियमित मा*सिक *धर्म चक्र, हार्मोनल असंतुलन, पेट दर्द और पीठ दर्द शामिल हैं।

यहाँ और पढ़ें : Multani Mitti Lagane Se Kya Hota Ha

Ashokarishta Ke Fayde in Hindi

आप यहां बताए गए अशोकारिष्ट के लाभ में अशोकारिष्ट सिरप के उपयोग के बारे में भी पढ़ सकते हैं। दोनों (Ashokarishta Benefits In Hindi) एक ही हैं।

अधिक और कम ब्लडिंग का उपचार

कुछ महिलाओं को मासिक* धर्म के दौरान कम या ज्यादा ब्लडिंग होता है। आयुर्वेदिक अशोकारिष्ट को पीने से इसका इलाज फायदेमंद होता है। जो ब्लीडिंग की समस्या से निजात दिलाता है।

मासिक* धर्म के 5 या 7 दिन सुबह नाश्ते के बाद इस शर्बत को पीना बेहतर होता है। जिन महिलाओं को अशोक की समस्या है, वे डॉक्टर के परामर्श से अशोकारिष्ट का सेवन कर सकती हैं। यह पीरियड्स के दौरान टॉनिक की तरह काम करता है।

पेट की बीमारियों की दवा

दर्द के लिए ज्यादातर लोग घरेलू नुस्खे आजमाते हैं। लेकिन अशोकारिष्ट सीनियर सिरप से पेट दर्द का भी इलाज किया जाता है। अपने कार्मिनेटिव गुणों के कारण यह पेट संबंधी समस्याओं से छुटकारा दिलाता है।

पेट-दर्द से राहत दिलाने के साथ ही यह शर्बत पेट की गैस को भी जड़ से दूर करता है। रोजाना सिर्फ एक चम्मच शरबत को पानी के साथ पीने से पेट की ज्यादातर समस्याओं से छुटकारा मिल सकता है।

गर्भाशय समारोह को बढ़ावा देना

गर्भाशय के संकुचन को खत्म करने के लिए अशोकारिष्ट के अधिक लाभ हैं। इसके एनाल्जेसिक और एंटीस्पास्मोडिक गुण गर्भाशय के संक्रमण और अन्य समस्याओं को ठीक करने में सहायक होते हैं।

यदि गर्भाशय से संबंधित कोई कारण हो तो अशोकारिष्ट का रस पीने से उसे शीघ्रता से दूर किया जा सकता है। इसके अलावा इस शर्बत को नियमित रूप से पीने से गर्भाशय की कार्यक्षमता भी बढ़ती है।

पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज में फायदेमंद

पेल्विक या पेल्विक इंफ्लेमेटरी डिजीज गर्भाशय का एक संक्रामक रोग है। यह रोग आमतौर पर बैक्टीरिया के गर्भ में प्रवेश करने के कारण होता है। अशोकारिष्ट सीनियर सिरप श्रोणि सूजन के लिए एक अच्छा इलाज है।

असंख्य औषधीय गुणों से भरपूर इस सिरप के सेवन से सूजन से राहत मिलती है। यह मजबूत पेय गर्भाशय, अंडाशय और अन्य प्रजनन अंगों को नुकसान को रोकने में भी मदद करता है।

ऑस्टियोपोरोसिस में फायदेमंद

ऑस्टियोपोरोसिस तब होता है जब शरीर में विटामिन डी की कमी होती है और हड्डियों का स्वास्थ्य खराब होता है। यह रोग बुजुर्गों में अधिक आम है। हालांकि, अशोकारिष्ट के जोखिम को कम करना बेहतर है।

कैल्शियम के उत्कृष्ट स्रोत के रूप में, यह हड्डियों के स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डालता है। इस सिरप के फायदे ऑस्टियोपोरोसिस के दर्द में ऐसे खनिजों की प्रचुरता के कारण अधिक होते हैं जो स्वास्थ्य के लिए फायदेमंद होते हैं।

पाचन में कारगर

पाचन तंत्र ठीक से काम नहीं कर पा रहा है, जिससे पाचन क्रिया ठीक से नहीं हो पाती है। अशोकारिष्ट का शरबत पीने से अपच, एसिडिटी, गैस और डायरिया से राहत मिलती है।

इसमें अच्छी मात्रा में फाइबर होता है, जो बेहतर पाचन में मदद करता है। अशोकारिष्ट महिलाओं को पीरियड्स के दौरान होने वाले पाचन विकारों से लड़ने की शक्ति भी देता है।

पीठ दर्द में अशोकारिष्ट वरिष्ठ के लाभ

पीठ दर्द रीढ़ की हड्डियों में खराबी के कारण होता है। रीढ़ की हड्डी पर ज्यादा दबाव पड़ने से कमर दर्द होता है। इस दर्द से छुटकारा पाने के लिए आपको अशोकारिष्ट का इस्तेमाल करना चाहिए।

कमर दर्द से पीड़ित कोई भी व्यक्ति इस शर्बत को पी सकता है। इस सिरप को पीने से सामान्य दिनों में और मासिक* धर्म के दौरान होने वाले पीठ दर्द से राहत मिल सकती है।

 अल्सर से छुटकारा

एसिड-पाचन भोजन के कारण पेट या आंतों की दीवार को नुकसान होने के कारण अल्सर होता है। दो प्रकार: गैस्ट्रिक अल्सर और ग्रहणी संबंधी अल्सर। अशोकारिष्ट के प्रभाव को समाप्त करने के लिए उपयोगी।

पेट और मुंह दोनों के छालों से छुटकारा पाने के लिए अशोका पेय फायदेमंद होता है। यह पेट दर्द, नाराज़गी, उल्टी और रक्तस्राव जैसे अल्सर के लक्षणों से राहत दिलाने में भी सहायक है।

अवधि के लिए अशोकारिष्ट सिरप

मासिक *धर्म के दौरान होने वाली ज्यादातर समस्याओं से छुटकारा पाने के लिए अशोकारिष्ट का शीतल पेय पीना बहुत फायदेमंद होता है। यह सिरप महिलाओं को प्रजनन क्षमता से हार्मोनल संतुलन बनाए रखने में मदद करता है।

पीरियड्स के दौरान अशोकारिष्ट महिलाओं की ज्यादातर समस्याओं को चमत्कारी टॉनिक की तरह हल करता है। यह गर्भाशय में सूजन, पेट में ऐंठन और खून के थक्के जमने जैसी समस्याओं से राहत दिलाता है।

 शक्ति प्रतिरक्षा

जब शरीर को उचित पोषण नहीं मिलता है, तो प्रतिरक्षा प्रणाली कमजोर होने लगती है। जिससे कोई बाहरी संक्रमण हो सकता है। लेकिन अशोकारिष्ट का शरबत या छिलका रोग प्रणाली को ठीक करता है।

अशोकारिष्ट में एक संशोधन पुष्टि करता है कि इसमें इम्यून मॉड्यूलेटर (इम्यून मॉड्यूलेटर) गुण हैं। जिससे कमजोर इम्युनिटी मजबूत होती है।

Side Effects of Ashokarishta in Hindi

अशोकारिष्ट औषधि है। इसलिए, डॉक्टर द्वारा बताई गई खुराक लेने से साइड इफेक्ट का खतरा कम हो जाता है। दूसरी ओर, इसका अत्यधिक उपयोग अशोकारिष्ट में कुछ कठिनाइयाँ दिखा सकता है। हालांकि, अशोकारिष्ट के नुकसान के बारे में कोई स्पष्ट वैज्ञानिक जानकारी नहीं हैसाक्ष्य नहीं मिला। हालांकि, ओवरडोज के कारण अशोकारिष्ट के नुकसान इस प्रकार हो सकते हैं:

प्राकृतिक अल्कोहल की उपस्थिति के कारण, अत्यधिक सेवन से एसिडिटी और जलन हो सकती है।

यह अनियमित मासिक *धर्म चक्र को नियंत्रित करने में मदद कर सकता है, लेकिन अधिक मात्रा में नियमित मासिक *धर्म चक्र को भी प्रभावित कर सकता है। फिलहाल, कोई सटीक शोध उपलब्ध नहीं है।

अशोकारिष्ट में गुड़ का भी प्रयोग किया जाता है, इसलिए मधुमेह रोगियों को इसके सेवन में सावधानी बरतनी चाहिए।

उच्च रक्तचाप के रोगियों को इसे लेने से पहले डॉक्टर से सलाह लेनी चाहिए।

निष्कर्ष

अशोकारिष्ट एक आयुर्वेदिक औषधि है, इसे स्त्री टॉनिक कहना गलत नहीं होगा। क्योंकि इस लेख में हमने महिलाओं के स्वास्थ्य से जुड़े इसके लाभों को गहराई से समझा है।

इतना ही नहीं, इस लेख (Ashokarishta in Hindi) की सहायता से हमने अशोकारिष्ट वरिष्ठ के अन्य लाभों के बारे में जाना, जिससे हमें इस दवा के गुणों और उपयोगिता को समझने में मदद मिली। उम्मीद है, जो लोग स्वास्थ्य और तंदुरुस्ती को बनाए रखने की कोशिश कर रहे हैं, उन्हें यह लेख पसंद आएगा।

यहाँ और पढ़ें : Jaiphal Benefits For Skin In Hindi – जायफल के फायदे

Leave a Reply

Your email address will not be published.