Maha Mrityunjaya Mantra in Hindi – महामृत्युंजय मंत्र

Maha mrityunjaya mantra meaning: महामृत्युंजय मंत्र ऋग्वेद का एक श्लोक है। भगवान शिव को मृत्युंजय के रूप में समर्पित यह महामंत्र ऋग्वेद में मिलता है। महामृत्युंजय मंत्र भगवान शिव का सबसे महान और प्रिय मंत्र माना जाता है।

सनातन धर्म में महामृत्युंजय मंत्र को जीवन रक्षक और महामोक्ष मंत्र कहा गया है। पुराणों के अनुसार महामृत्युंजय मंत्र से शिव शीघ्र प्रसन्न हो होते है ।

वैसे तो महामृत्युंजय मंत्र का जाप कभी भी किया जा सकता है, लेकिन श्रावण मास में महामृत्युंजय मंत्र का जाप करने से सौ गुना अधिक फल मिलता है।

हिंदू धर्म में सर्वोच्च माने जाने वाले देवों के देव महादेव भगवान शिव की पूजा करने से सभी सांसारिक सुखों की प्राप्ति होती है और अंत में मोक्ष की प्राप्ति होती है। महामृत्युंजय मंत्र (maha mrityunjaya mantra in hindi) भगवान शिव का सबसे महान मंत्र माना जाता है।

इस मंत्र का उल्लेख ऋग्वेद में मिलता है। शास्त्रों में उल्लेख है कि ऋषि मार्कंडेय की भक्ति से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने ऋषि मार्कंडेय को यह मंत्र दिया था। मोक्ष की इच्छा रखने वाले व्यक्ति के लिए महा मृत्युंजय मंत्र सबसे उपयुक्त है। भगवान शिव का यह मंत्र मानव जीवन के लिए अभेद्य कवच है।

Maha mrityunjaya mantra hindi

महामृत्युंजय मंत्र लिखा हुआ – ॐ हौं जूं सः ॐ भूर्भुवः स्वः ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॐ स्वः भुवः भुवः ॐ सः जूं हौं ॐ।

Meaning of Maha Mrityunjaya Mantra in Hindi

  • त्र्यंबकम – तीन नेत्र; सक्रिय
  • यजामहे – हम पूजते हैं, सम्मान करते हैं।
  • इत्र – सुगन्ध, महक।
  • प्रतिज्ञान – एक पोषित राज्य, एक समृद्ध व्यक्ति। जीवन की परिपूर्णता
  • वर्धनम – वह जो पोषण करता है, शक्ति देता है।
  • खाद – खीरा।
  • इवत्र- जैसे, इस तरह।
  • बंधनत्र – वास्तव में पिछले से अधिक लंबा है।
  • मौत से मौत
  • मुखिया, हमें आज़ाद करो, हमें आज़ादी दो। यह वह नहीं है
  • अमृतत – अमरत्व, मोक्ष।

Maha mrityunjaya mantra in Bengali

ওম হউন জুন সহ ওম ভুর্ভুভঃ স্বাহ্ ওম ত্রিম্বকম যজামহে সুগন্ধি পুষ্টীবর্ধনম উর্ভারুকমিভ বন্ধনন মৃত্যুর্মুখিয়া মমৃতত ওম স্বাহ্ ভুভঃ ভুভঃ ওম সহ জুন হউন ওম।

महामृत्युंजय मंत्र की विशेषता

हम तीन नेत्रों वाले भगवान शंकर की पूजा करते हैं, जो हर सांस में प्राण डालते हैं, जो अपनी ऊर्जा से पूरे विश्व को धारण कर रहे हैं, हम उनसे प्रार्थना करते हैं कि जैसे ही उनकी बेल पर ककड़ी पकती है, वैसे ही वे मुक्त हो जाते हैं।

संसार एक बेल के रूप में है, जैसे हम इस संसार रूपी बेल में पककर जन्म मरण के बंधनों से हमेशा के लिए मुक्त हो जाते हैं और आपके चरणों का अमृत पीकर हम शरीर को छोड़कर लीन हो जाते हैं। स्वयं और मोक्ष प्राप्त करें।

महामृत्युंजय मंत्र का जाप कब करना चाहिए

महामृत्युंजय मंत्र ऋग्वेद का एक श्लोक है। महामृत्युंजय मंत्र शोक, मृत्यु के भय, अनिश्चितता, रोग, दोष, पाप विनाश के प्रभाव को कम करने में बहुत फायदेमंद है। महामृत्युंजय मंत्र का जाप तब लाभकारी होता है जब किसी को लाइलाज बीमारी हो या किसी बड़ी बीमारी से बचने की संभावना बहुत कम हो।

ऐसा कहा जाता है कि इस मंत्र का लगातार सवा लाख बार जप करने से पाप ग्रहों के रोग और दुष्प्रभाव दूर होते हैं और पाप ग्रहों से शांति मिलती है। महामृत्युंजय मंत्र का जाप करने से अकाल मृत्यु की संभावना कम होती है और दीर्घायु होती है। इस मंत्र के जाप से आत्मा के कर्म शुद्ध होते हैं और व्यक्ति को दीर्घायु और यश की प्राप्ति होती है।

यह मानसिक, भावनात्मक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए भी फायदेमंद है। महामृत्युंजय मंत्र का जाप करने से कुंडली के सबसे गंभीर दोष कालसर्प दोष से छुटकारा पाया जा सकता है। इस जन्म और पूर्व जन्म के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं।

शिवालय में शिवलिंग के सामने बैठकर महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना चाहिए। इस मंत्र का जाप सोमवार से शुरू करना चाहिए। इसके अलावा सावन मास में किसी भी दिन या शिवरात्रि के दिन भी मंत्र जप प्रारंभ करना अत्यंत शुभ होता है।

शास्त्रों के अनुसार इस मंत्र का सवा लाख बार जाप करने से मनुष्य को बड़े से बड़े रोग या पीड़ा से मुक्ति मिल जाती है। लेकिन अपनी क्षमता के अनुसार पहले दिन ही मंत्रों की संख्या पर संकल्प करके प्रारंभ करें।

इसमें आप यह सुनिश्चित करें कि जप की संख्या 11000, 21000 या अपनी क्षमता के अनुसार हो। वैसे तो महामृत्युंजय मंत्र का जाप कभी भी किया जा सकता है, लेकिन माना जाता है कि जप प्रात: 12(12) से पहले कर लेना चाहिए, क्योंकि दोपहर 12(12) के बाद इस मंत्र का जाप करने से फल नहीं मिलता है।

महामृत्युंजय मंत्र साधना विधि

महामृत्युंजय मंत्र का जाप पूरी तरह से शुद्ध होना चाहिए और मंत्र का जाप होठों से बाहर नहीं आना चाहिए। रुद्राक्ष की माला से ही महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना चाहिए और माला को गाय के मुंह में रखना चाहिए।

जब तक जप की संख्या पूर्ण न हो तब तक गाय के मुख से माला नहीं उतारनी चाहिए। कुश के आसन पर पूर्व की ओर मुख करके बैठ कर महामृत्युंजय मंत्र का जाप करें।

इस मंत्र का जाप करते समय धूप-दीप जलाना चाहिए और जप करते हुए दूध मिले जल से शिवलिंग का अभिषेक करना चाहिए। जप करते समय इन महत्वपूर्ण बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए।

कुछ लोगों की यह धारणा है कि महामृत्युंजय मंत्र का जाप विशेष परिस्थितियों में ही करना चाहिए। लेकिन ऐसा नहीं है कि महा मृत्युंजय मंत्र का जाप पूरी तरह से सुरक्षित है और कोई भी व्यक्ति इस मंत्र का जाप कर सकता है।

यदि आप ऐसा नहीं कर पा रहे हैं तो किसी विद्वान विद्वान से इस मंत्र का जाप करें, यह आपके लिए अधिक लाभकारी होगा। महामृत्युंजय मंत्र का जाप करने के बाद 21 बार गायत्री मंत्र का जाप करना चाहिए, ताकि महामृत्युंजय मंत्र का अशुद्ध जप करने पर भी हानि का भय न रहे। महामृतजप मंत्र सदा मंगलकारी होता है।

महामृत्युंजय मंत्र में छिपा है हर समस्या का समाधान

महामृत्युंजय मंत्र मृत्यु को जीतने वाला मंत्र है, इसकी कथा के अनुसार शिव के परम भक्त ऋषि मृकंडु की कोई संतान नहीं थी, इसलिए उन्होंने संतान प्राप्ति के लिए भगवान शंकर की कई तपस्या की, जिससे शंकरजी प्रसन्न हुए।

उसे दे दिया दूल्हा अपनी इच्छा के अनुसार संतान प्राप्त करता है। लेकिन उन्होंने कहा कि यह बच्चा जवान होगा। भगवान शिव की कृपा से मृकंडु ऋषि के यहां एक पुत्र उत्पन्न हुआ, जिसका नाम उन्होंने मार्कण्डेय रखा।

ऋषियों ने कहा कि मार्कंडेय केवल 16 वर्ष के होंगे। यह जानकर ऋषि मृकंडु शोक से व्याकुल हो गए, लेकिन उनकी पत्नी ने कहा कि जब यह भगवान शिव की कृपा से पैदा हुआ है, तो केवल भगवान शिव ही इसकी रक्षा करेंगे।

तब ऋषि ने अपने पुत्र मार्कंडेय को अल्पायु के बारे में बताया और कहा कि तुम भगवान शिव की पूजा करो और उन्हें एक शिव मंत्र दिया।

तब मार्कंडेय ने शिव से लंबी उम्र का वरदान पाने के लिए तपस्या शुरू की और शिव की आराधना के लिए उन्होंने महामृत्युंजय मंत्र नामक मंत्र की रचना की।

जब उनकी मृत्यु का समय आया, तो यमराज उनके प्राण लेने आए और उन्होंने अपना फंदा मार्कंडेय पर फेंक दिया, फिर उन्होंने शिवलिंग को गले लगा लिया और फंदा शिवलिंग पर गिर गया, जिससे भगवान शिव क्रोधित हो गए और यमराज ने मार्कंडेय के प्राण लेने से रोक दिया।

इसमें यमराज मार्कण्डे को उनके पूर्व लिखित भाग्य की याद दिलाते हैं। इसलिए भगवान शिव ने मार्कंडेय को दीर्घायु का आशीर्वाद दिया और उनका भाग्य बदल दिया।

Maha mrityunjaya mantra benefits

महामृत्युंजय मंत्र जाप के फायदे:  इस मंत्र यानी महामृत्युंजय मंत्र का जाप किसी विशेष प्रयोजन के लिए किया जाता है, इस मंत्र का जाप करने वाले भक्त को भगवान शिव कभी निराश नहीं करते-

  • महामृत्युंजय मंत्र का जाप करना सदैव शुभ फलदायक होता है।
  • महामृत्युंजय मंत्र का जाप परिवार में किसी की लाइलाज बीमारी को ठीक करने के लिए किया जाता है।
  • मृत्यु के भय को दूर करने के लिए महामृत्युंजय मंत्र का जाप किया जाता है।
  • महामृत्युंजय मंत्र के जाप से कई ग्रहों की शांति होती है।
  • महामृत्युंजय मंत्र यौवन को बनाए रखने में भी मदद करता है।
  • महामृत्युंजय मंत्र का जाप बड़े से बड़े रोग से बचने के लिए किया जाता है।
  • यह पापों को नष्ट करने में अत्यंत उपयोगी है।

FAQ::

(1): सही महामृत्युंजय मंत्र क्या है?

महामृत्युंजय मंत्र पढ़ता है: ॐ त्र्य॑म्बकं यजामहे सु॒गन्धिं॑ पुष्टि॒वर्ध॑नम् । उ॒र्वा॒रु॒कमि॑व॒ बन्ध॑नान् मृ॒त्योर्मु॑क्षीय॒ माऽमृता॑॑त् ।।

(2) महामृत्युंजय मंत्र कैसे बोला जाता है?

ॐ हौं जूं स: ॐ भूर्भुव: स्व: ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम् उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् ॐ स्व: भुव: भू: ॐ स: जूं हौं ॐ !!

(3) महामृत्युंजय मंत्र कब और कैसे करें?

  • जाप से पहले भगवान के सामने अगरबत्ती जलाएं। ,
  • इस मंत्र का जाप करते समय शिव की कोई भी मूर्ति, चित्र, शिवलिंग या महामृत्युंजय यंत्र अपने पास रखना न भूलें।
  • कुश आसन पर हमेशा मंत्रों का जाप किया जाता है। ,
  • महामृत्युंजय मंत्र का जाप करते समय और सभी अनुष्ठान करते समय अपना चेहरा पूर्व की ओर रखें।

(4) मृत्युंजय मंत्र बोलने से क्या होता है?

शिव पुराण के अनुसार इस मंत्र का जाप करने से पुरुषों के सभी विघ्न और संकट दूर हो जाते हैं। महामृत्युंजय मंत्र के जप से मांगलिक दोष, नाड़ी दोष, कालसर्प दोष, भूत दोष, रोग, दुःस्वप्न, गर्भपात, संतान-बाधा, अनेक दोषों का नाश होता है।

यहाँ और पढ़ें: बसंत पंचमी क्यों मनाई जाती है

यहाँ और पढ़ें: Rishi Panchami Vrat Katha

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *