Keyword Kya Hota Hai Aur Keyword Resesach Kaise Kare

Keyword kya hota hai – वैसे तो हर ब्लॉगर ने इसके बारे में सुना होगा, लेकिन SEO में कीवर्ड कितना जरूरी है और कीवर्ड रिसर्च को सही तरीके से कैसे करें? इस बात की जानकारी बहुत कम लोगों को है।

SEO का पहला और सबसे महत्वपूर्ण स्टेप है प्रॉपर कीवर्ड रिसर्च। अगर आप सही कीवर्ड्स पर रिसर्च करते हैं और उन पर आर्टिकल लिखते हैं, तो आप अपने ब्लॉग पर काफी ट्रैफिक ला सकते हैं।

लेकिन उसके लिए आपको अच्छी तरह से पता होना चाहिए कि Keyword Kya Hota Hai Aur Keyword Resesach Kaise Kare और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि आप नए ब्लॉगर कीवर्ड कीवर्ड रिसर्च कैसे करते हैं?

What is keyword in Hindi?

आपके ब्लॉग पोस्ट की कंटेंट का डिस्क्रिप्शन करने वाले शब्द या वाक्यांश कीवर्ड या फोकस कीवर्ड कहलाते हैं। साथ ही, यह शब्द या वाक्यांश Google bot को बताता है कि आपकी पोस्ट किसी भी विषय पर लिखी गई है ताकि वे आपको Google सर्च इंजन में रैंकिंग दे सकें।

चूँकि मैं SEO के बारे में जानना चाहता हूँ, तो मैं Google में जाकर टाइप करूँगा कि SEO kya hai aur seo kaise kare, यह वाक्य टेक ब्लॉगर्स के लिए एक लॉन्ग टेल कीवर्ड बन जाता है।

यहाँ और पढ़ें : blog-kaise-banayen

यहाँ और पढ़ें : best-niche-for-blogging-in-hindi

कीवर्ड डेंसिटी क्या है?

कीवर्ड डेंसिटी का मतलब है कि आप अपने पूरे पोस्ट में अपने मूल कीवर्ड (Focus keyword) का कितनी बार उपयोग करते हैं। हालांकि शुरुआत में कीवर्ड डेंसिटी महत्वपूर्ण थी कि आप पोस्ट में जितनी बार कीवर्ड का इस्तेमाल करेंगे उतना ही आपको रैंकिंग में फायदा होगा।

लेकिन गूगल अपडेट के बाद अब आपको पोस्ट में अपने ओरिजिनल कीवर्ड्स का इस्तेमाल करने की जरूरत है, लेकिन ज्यादा नेचुरल तरीके से हो सके तो अपनी पोस्ट की लंबाई के हिसाब से सिर्फ 2% कीवर्ड्स का ही इस्तेमाल करें।

इस पोस्ट के लास्ट पार्ट में अब हम आपको कीवर्ड के सबसे महत्वपूर्ण पार्ट के बारे में बताने जा रहे हैं और इस तरह एक नया ब्लॉगर कीवर्ड पर रिसर्च करता है और फिर उसे अपने पोस्ट में कहां इस्तेमाल करता है।

कीवर्ड क्यों जरूरी हैं? Why are keywords important?

अब तक आपने इस पोस्ट के माध्यम से जाना कि Keyword kya hota hai in hindi. लेकिन कई नए ब्लॉगर्स के मन में यह सवाल भी होता है कि कीवर्ड क्यों जरूरी है।

यदि आप चाहते हैं कि आपके ब्लॉग पर Google से ऑर्गेनिक ट्रैफ़िक आए, जो आपके ब्लॉग पर ट्रैफ़िक लाने का सबसे बड़ा स्रोत है, तो आपको SEO सीखने और समझने की आवश्यकता है और कीवर्ड SEO का पहला और सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है जो महत्वपूर्ण है।

आज की दुनिया में अगर हमें किसी चीज के बारे में जानकारी चाहिए तो हम गूगल के सर्च इंजन में जाकर अपना सवाल टाइप करते हैं। और आप अपना प्रश्न पूछने के लिए जिस शब्द या वाक्यांश का उपयोग करते हैं वह एक ब्लॉगर या एसईओ विशेषज्ञ का कीवर्ड है।

गूगल कीवर्ड प्लानर टूल क्या है?

जैसा कि आप SEO के बारे में जानना चाहते हैं, आप Google में जाते हैं और SEO क्या है टाइप करते हैं, यह एक Tech Blogger का Keyword बन जाता है।

अब ब्लॉगर के लिए कीवर्ड की आवश्यकता आती है, तो Google का सर्च इंजन वास्तव में आपके ब्लॉग पोस्ट में उन कीवर्ड को देखकर आपके ब्लॉग पोस्ट को रैंक करता है।

तो कुल मिलाकर अगर आप अपने पोस्ट में कीवर्ड्स पर रिसर्च करते हैं और उसका सही जगह इस्तेमाल करते हैं, जब सर्च इंजन बॉट आपके ब्लॉग पोस्ट को क्रॉल करते हैं, तो आपकी पोस्ट की सामग्री को समझने के अलावा, वे यह भी देखते हैं कि इस पोस्ट के बाद किन कीवर्ड्स को टारगेट किया गया है। कि वे उस प्रश्न के लिए प्रासंगिक हैं।

आशा है कि आप कीवर्ड के महत्व को समझ गए होंगे। लेकिन कई प्रकार के कीवर्ड भी हैं जिन्हें आपको अच्छी तरह से समझने की जरूरत है, खासकर नए ब्लॉगर्स, क्योंकि तब आप यह साफ कर सकते हैं कि आप किस तरह के कीवर्ड की तलाश कर रहे हैं जिससे आपकी पोस्ट रैंकिंग में मदद मिल सके।

यहाँ और पढ़ें : domain-meaning-in-hindi-domain-kya-hai-in-hindi

यहाँ और पढ़ें : hindi-blog-sites-best-hindi-blogger-and-his-blogs-in-india

कीवर्ड के प्रकार – keyword types in hindi

सही कीवर्ड खोजने के लिए, आपको कीवर्ड के प्रकार के बारे में अच्छी तरह पता होना चाहिए।

शॉर्ट टेल कीवर्ड (Short tail keyword): 2 या 2 से कम शब्दों को शॉर्ट टेल कीवर्ड कहा जाता है जैसे – SEO, research आदि।

इस प्रकार की कीवर्ड सर्चस बहुत अधिक होती है, जिसका अर्थ है कि बहुत से लोग एक महीने में इस प्रकार के कीवर्ड की सर्चस करते हैं, लेकिन यह बहुत है इन कीवर्ड को रैंक करना मुश्किल है क्योंकि कई बड़े लोग ऐसे कीवर्ड में पहले ही जगह पा चुके हैं।

इसलिए एक नए ब्लॉगर को शॉर्ट टेल कीवर्ड्स पर रिसर्च नहीं करनी चाहिए।

लॉन्ग टेल कीवर्ड (Long tail keyword): 3 या अधिक शब्दों को लॉन्ग टेल कीवर्ड कहा जाता है जैसे how to choose keywords for google ads in hindi, seo kya hai aur kaise kare, google ads keywords meaning in hindi आदि।

इन कीवर्ड की सर्चस आमतौर पर थोड़ी कम होती है, लेकिन नए ब्लॉगर्स को समान कीवर्ड पर रिसर्च करना चाहिए क्योंकि कम्पटीशन  थोड़ी कम है उन्हें।

एलएसआई कीवर्ड (LSI keyword) 

एलएसआई कीवर्ड का पूरा नाम Latent Semantic Indexing keyword। आपका मुख्य कीवर्ड कौन सा है जैसे seo kya hai?, कई लोग इसे अलग-अलग तरीकों से पूछते हैं जैसे – seo kaise kare in hindi, seo kitna prakar hote hai, seo kya hai in hindi आदि।

इसका मतलब है कि आपके मूल कीवर्ड के संबंधित कीवर्ड को LSI कीवर्ड कहा जाता है। और उन्हें सर्च करके भी आपको उन्हें अपने ब्लॉग पोस्ट में इस्तेमाल करने की जरूरत है, जिससे आपको SEO में बहुत मदद मिलती है।

मुझे उम्मीद है कि अब तक इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप समझ गए होंगे कि keyword kya hota hai aur keyword resesach kaise kare और keywords kitnaprakar के होते हैं। और new Bloggers को किस तरह के Keywords का इस्तेमाल करना चाहिए।

लेकिन कीवर्ड के बारे में एक शब्द है जो आमतौर पर इस्तेमाल किया जाता है और कई नए ब्लॉगर भी इसके बारे में बहुत कन्फ्यूज्ड हैं, वह है कीवर्ड डेंसिटी।

कीवर्ड रिसर्च कैसे करें? Keyword Research kaise kare in hindi?

1 – Keyword Research Tools का प्रयोग करें

2 – Google Auto suggestion का प्रयोग करें

3 – ubersuggest

4 – keyword everywhere

5 – keywordtool.io

निष्कर्ष

मुझे पूरी उम्मीद है कि हमारे इस आर्टिकल keyword kya hota hai aur keyword resesach kaise kare पढ़ने के बाद, आपको निश्चित रूप से एक अच्छा विचार आया होगा कि कीवर्ड क्या है, यह क्यों महत्वपूर्ण है और कीवर्ड रिसर्च कैसे करें।

अगर आपको यह पोस्ट उसेफुल लगे तो कृपया इसे सोशल मीडिया पर शेयर करें और हमारे सोशल मीडिया पेज पर हमें फॉलो करें।

यहाँ और पढ़ें : off-page-seo-kya-hai

यहाँ और पढ़ें : blog-post-publish-karne-ke-baad-use-promote-kaise-kare

Leave a Reply

Your email address will not be published.