Hindi Diwas Kab Manaya Jata Hai Aur Kyu Manaya Jata Hai

Hindi diwas kab manaya jata hai? हर साल 10 जनवरी को, नागपुर, महाराष्ट्र में आयोजित पहले ‘विश्व हिंदी सम्मेलन’ की वर्षगांठ के अवसर पर विश्व हिंदी दिवस मनाया जाता है। सम्मेलन का उद्घाटन भारत की तत्कालीन प्रधान मंत्री इंदिरा गांधी ने किया था।

दुनिया भर में लाखों लोग 10 जनवरी को ‘विश्व हिंदी दिवस’ के रूप में मना रहे हैं। इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य दुनिया भर में हिंदी भाषा को बढ़ावा देना है। 2011 की जनगणना के अनुसार, भारत में 43.63 लोग हिंदी बोलते हैं।

वहीं, ‘राष्ट्रीय हिंदी दिवस’ हर साल 14 सितंबर को मनाया जाता है। हिंदी दिवस के इन दो दिनों का अपना अलग उद्देश्य और महत्व है।

हिंदी दिवस क्या है? Hindi diwas Kya Hai?

हिंदी दिवस वह दिन है जिस दिन भारत में सबसे अधिक इस्तेमाल की जाने वाली भाषा हिंदी को आधिकारिक भाषा का दर्जा दिया गया था। हिंदी को राजभाषा बनाने की खबर सुनने के बाद, कई लोगों ने विरोध किया और दंगा किया, लेकिन हिंदी दिवस के दिन, हिंदी को अंततः राज्य भाषा का दर्जा मिला।

इस दिन कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। इस कार्यक्रम में हिंदी भाषा के निबंधों, कविताओं, वाद-विवाद, गीतों आदि पर प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती हैं ताकि हिंदी भाषा में लिखी गई सर्वश्रेष्ठ रचनाओं के मालिकों को भी हिंदी भाषा के सुधार के लिए पुरस्कृत किया जा सके।

कई हिंदी प्रेमी हिंदी दिवस का विरोध भी करते हैं। क्योंकि उनके अनुसार हिंदी सरकार साल में एक बार ही याद करती है। आज भी कई कार्यालयों में हिंदी का प्रयोग भाषण और हस्तलेखन के लिए नहीं किया जाता है और अगर है भी तो पूरी तरह से नहीं किया जाता है।

यहाँ और पढ़ें : maha-shivratri-kyu-manaya-jata-hai 

यहाँ और पढ़ें : akshaya-tritiya-kyu-manaya-jata-hai-facts-of-akshaya-tritiya

हिंदी दिवस का इतिहास – history of hindi day in india

भारत के संविधान ने हिंदी को सम्मान तो दिया, लेकिन इससे जुड़े नियमों को लागू करने के लिए कुछ प्रयास किए गए। ऐसे में जरूरी है कि आम लोगों में हिंदी की स्थिति को सुधारने के लिए हिंदी दिवस मनाया जाए। लेकिन यह जानना बहुत जरूरी है कि हिंदी की संवैधानिक स्थिति क्या है?

अनुच्छेद 120 के अनुसार संसद में हिंदी का प्रयोग होना चाहिए। अनुच्छेद 343 के अनुसार संघ की राजभाषा देवनागरी लिपि में हिन्दी होगी। संघ के आधिकारिक कार्यों में प्रयुक्त संख्या प्रपत्र भारतीय अंकों का अंतर्राष्ट्रीय रूप होगा। इन सबके अलावा संविधान में हिंदी के पक्ष में कुछ नियम बनाए गए हैं।

हिंदी दिवस की कुछ विशेषताएं – Some features of Hindi Diwas

हिंदी भाषा के महत्व पर जोर देने के लिए हर साल मनाया जाने वाला एक विशेष दिन है। हर साल यह दिन हमें हमारी मूल भाषा और हमारी संस्कृति से अवगत कराता है। हमें और हमारी आने वाली पीढ़ियों को हिंदी भाषा के महत्व को समझने की जरूरत है।

इस भाषा की दर दिन-ब-दिन घटती जा रही है और अंग्रेजी भाषा को अधिक महत्व दिया जा रहा है। हर साल हिंदी दिवस हमें याद दिलाता है कि हिंदी हमारी मातृभाषा है और हमें इसे आगे ले जाना है।

Hindi न केवल भारत की राजभाषा है, बल्कि भारत की पहचान भी है। भारत में हिन्दी भाषा का इतिहास हजारों वर्ष पुराना है। Hindi हमारी मातृभाषा है जिसे हमें याद रखना चाहिए और हमारी पीढ़ी को भी। हिंदी दिवस बार-बार आता है और हमें हमारी संस्कृति की याद दिलाता है, इसीलिए हिंदी दिवस का महत्व माना गया है।

हिंदी दिवस कैसे मनाया जाता है? How is Hindi Divas celebrated?

हिंदी दिवस देश में बड़ी श्रद्धा और उल्लास के साथ मनाया जाता है। यहां सम्मान उस वर्ग के लिए है, जिन्होंने अपने सामान्य जीवन में अंग्रेजी को प्राथमिकता दी है, लेकिन आज भी वे हिंदी का सम्मान करते नजर आते हैं।

इसके लिए सोशल मीडिया एक ऐसा मंच है जहां आप अपनी अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का प्रयोग करते हैं और देश की भाषा को राष्ट्रभाषा के रूप में इस्तेमाल करते हैं।

आधिकारिक तौर पर नेशनल बिल्डिंग इस दिन को मनाने में भी पीछे नहीं है। हिन्दी साहित्य में योगदान देने वाले को देश का राष्ट्रपति सम्मान देता है, इस पुरस्कार से हिन्दी साहित्य आज भी सम्मान के साथ अपना अस्तित्व कायम रखता है।

इसके अलावा राष्ट्रीय बैंकों, मंत्रालयों और कुछ विभागों को राजभाषा से संबंधित पुरस्कार भी दिए जाते हैं। 25 मार्च, 2015 को, इन पुरस्कारों के नाम राजीव गांधी राष्ट्रीय ज्ञान विज्ञान मूल पुस्तक लेखन पुरस्कार के लिए राजभाषा गौरव पुरुष और राजभाषा कीर्ति पुरुष के लिए इंदिरा गांधी राजभाषा पुरस्कार में बदल दिए गए थे।

यहाँ और पढ़ें : hanuman-jayanti-kyu-manaya-jata-hai

यहाँ और पढ़ें : happy-christmas-day

हिंदी दिवस कब मनाया जाता है? Hindi Diwas Kab Manaya Jata Hai

हिंदी दिवस हर साल 14 सितंबर को मनाया जाता है। 14 सितंबर 1949 हिंदी को भारत की राजभाषा का दर्जा दिया गया। 14 सितंबर को हिंदी भाषा को लेकर कई फैसले लिए गए। इसी वजह से 14 सितंबर को हिंदी दिवस मनाने के लिए अच्छा माना गया।

इस दिन के महत्व को देखते हुए, देश के पहले प्रधान मंत्री जवाहरलाल नेहरू ने हर साल 14 सितंबर को हिंदी दिवस के रूप में मनाने के लिए कहा।

14 सितंबर 1949 को संविधान सभा ने सर्वसम्मति से निर्णय लिया कि हिंदी भारत की राजभाषा होगी। अंग्रेजी भाषा को हटाने की खबर से देश के कई हिस्सों में दंगे हो गए। 1 जनवरी, 1965 को तमिलनाडु में भाषा के विवाद को लेकर दंगा हुआ था।

अंतिम 

मुझे उम्मीद है कि आपको मेरा यह लेख Hindi Diwas Kab Manaya Jata Hai, पसंद आया होगा। अगर आपको हिंदी दिवस पर यह पोस्ट पसंद है, तो कृपया इस पोस्ट को सोशल नेटवर्क जैसे फेसबुक, ट्विटर और अन्य सोशल मीडिया साइटों पर शेयर करें।

यहाँ और पढ़ें :azad-hind-fauj-history-hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published.