Goat Farming in India – Bakri Palan

Goat Farming (बकरी पालन) व्यापार एक लाभदायक व्यवसाय है। इस व्यापार के माध्यम से बहुत सारे लाभ कमाए जा सकते हैं। यहां तक कि कृषि में बकरी पालन बहुत आसानी से किया जा सकता है।

ऐसे कई किसान हैं जो कृषि के साथ-साथ पशुपालन भी करते हैं। कोई भी इस फॉर्म को कुछ सरल तरीकों से शुरू कर सकता है और पैसे कमा सकता है।

Goat Farming (बकरी पालन) के लिए आवश्यक स्थान

बकरी पालन के लिए एक व्यवस्थित स्थान की आवश्यकता होती है। इस कार्य के लिए स्थान चुनते समय, निम्नलिखित बातों पर ध्यान दें।

स्थान चयन: सबसे पहले बकरी पालन के लिए एक स्थान का चयन करें, जो शहरी क्षेत्र के बाहर है, अर्थात् एक ग्रामीण क्षेत्र में। ऐसी जगहों पर बकरियों को शहर के प्रदूषण और अनावश्यक शोर से बचाया जाएगा।

शेड निर्माण: बकरी पालन के लिए चयनित स्थान पर एक शेड का निर्माण करना होगा। शेड बनाएं ताकि हवा आसानी से अंदर आ सके।

बकरियों की संख्या: बकरी पालन के लिए बकरियों की कम से कम एक इकाई होनी चाहिए। याद रखें कि सभी बकरियां एक ही नस्ल की हैं।

पीने का पानी: बकरियों को शीतल पेयजल प्रदान करें। इसका लाभ शेड के अंदर स्थायी रूप से दिया जा सकता है।

सफाई: बकरी के आसपास के क्षेत्र की सफाई का विशेष ध्यान रखें। उनके मल और मूत्र की स्वच्छता का ध्यान रखना महत्वपूर्ण है।

बकरियों की संख्या का नियंत्रण: शेड में उतनी ही बकरियाँ पालें, जितनी आसानी से पाली जा सकती हैं. यहाँ बकरियों की भीड़ न बढाएं

यहाँ और पढ़ें : machli-palan-ka-tarika-puri-jankari-fish-farming

यहाँ और पढ़ें : small-low-investment-business-ideas-hindi-laghu-udyog

बकरी नस्लों की सूची

हमारे देश में बकरियों की अलग-अलग नस्लें हैं, उनके नाम नीचे दिए गए हैं। आप इन बकरी नस्लों में से किसी एक के साथ अपना बकरी पालन व्यवसाय शुरू कर सकते हैं।

ओस्मानाबादी बकरी: इस नस्ल का उपयोग दूध और मांस दोनों के लिए किया जाता है। यह नस्ल महाराष्ट्र में पाई जाती है। इस नस्ल की बकरियां आमतौर पर साल में दो बार प्रजनन करती हैं। इस प्रजनन प्रक्रिया के दौरान जुड़वाँ या तीन बच्चे भी हो सकते हैं।

जामुनपारी बकरियां: जामुनपारी बकरियां दूध के मामले में काफी बेहतर होती हैं। बकरी की यह नस्ल बकरियों की अन्य नस्लों की तुलना में बेहतर दूध देती है। यह उत्तर प्रदेश की एक किस्म है। बकरी की इस नस्ल को साल में एक बार ही पाला जाता है। साथ ही, इन बकरियों के जुड़वा बच्चों को जन्म देने की संभावना कम होती है।

बीटल बकरी: बकरी की यह नस्ल पंजाब और हरियाणा में पाई जाती है। जामुनपारी के बाद दूध देने में यह बकरी बहुत अच्छी है। इसलिए, इसका उपयोग दूध के लिए किया जाता है। इस नस्ल में बकरियों की तुलना में जुड़वां बच्चे पैदा करने की अपेक्षाकृत अधिक संभावना है।

शिरोई बकरी: बकरी की इस नस्ल का उपयोग दूध और मांस दोनों प्राप्त करने के लिए किया जाता है। यह एक राजस्थानी किस्म है। इस नस्ल की बकरियां आमतौर पर साल में दो बार प्रजनन करती हैं। इस नस्ल की बकरियां दो संतानों से कम की उम्मीद करती हैं।

अफ्रीकन बोर: इस नस्ल का इस्तेमाल बकरे के मांस को पाने के लिए किया जाता है। बकरी की इस नस्ल की खास बात यह है कि कम समय में इसका वजन काफी बढ़ जाता है, इसलिए यह अधिक लाभ देती है। इसके अलावा, इस नस्ल की बकरियां अक्सर जुड़वा बच्चों में प्रजनन करती हैं। यही कारण है कि अफ्रीकी बोर बकरों की बाजार में उच्च मांग है।

यहाँ और पढ़ें : agarbatti-making-machine

यहाँ और पढ़ें : work-from-home-jobs

रोग निवारण और टीकाकरण:

बढ़ी हुई बकरियां विभिन्न बीमारियों का कारण बन सकती हैं। उनके कारण होने वाली मुख्य बीमारियों का वर्णन नीचे किया गया है, यही कारण है कि इन बकरियों को संरक्षित करने की आवश्यकता है। इस बीमारी से बचाव के लिए टीके लगाए जाते हैं।

पैर और मुंह की बीमारी (एफएमडी): पैरों और मुंह से संबंधित बीमारियां अक्सर बकरियों में देखी जाती हैं। टीके इस बीमारी को रोक सकते हैं। यह टीका 3 से 4 महीने की उम्र में बकरियों को दिया जाता है। इस वैक्सीन के चार महीने बाद बूस्टर दिया जाना चाहिए। यह टीका हर छह महीने में दोहराया जाता है।

बकरी का प्लेग (PPR): प्लेग बकरी के लिए एक बहुत ही खतरनाक बीमारी है। इस बीमारी के कारण बहुत सारी बकरियां मर सकती हैं। हालांकि, टीकों की मदद से इस बीमारी को रोका जा सकता है। इस बीमारी से बकरियों को बचाने के लिए, पहला टीका चार महीने की उम्र में दिया जाता है। इसके बाद, हर चार साल में बकरियों को टीका लगाया जाना चाहिए।

बकरी पॉक्स: बकरी पॉक्स भी एक बहुत ही खतरनाक बीमारी है। इस बीमारी से बचाने के लिए बकरियों को तीन से पांच महीने की उम्र में पहली बार टीका लगाया जाना चाहिए। यह टीका हर साल बकरियों को दिया जाना चाहिए।

रक्तस्रावी सेप्टिसीमिया (एचएस): हालांकि यह एक बड़ी बीमारी नहीं है, लेकिन यह बकरियों को बहुत नुकसान पहुंचाती है। इस बीमारी से बचाव का पहला टीका जन्म के 3 से 6 महीने के बीच दिया जाता है। उसके बाद यह टीका हर साल दिया जाता है। मानसून से पहले यह टीका देने की सिफारिश की जाती है।

एंथ्रेक्स: यह एक जानलेवा बीमारी है जो पशु से व्यक्ति में फैल सकती है। इस प्रकार, इस बीमारी की रोकथाम अनिवार्य है। इस बीमारी से बचाव के लिए बकरियों को पहले 4 से 6 महीने की उम्र में टीका लगाया जाता है। इसके बाद, यह टीका हर साल दिया जाना चाहिए।

बकरी पालन लाभ – goat farming profit or loss

हर महीने मुनाफे को इस व्यापार में नहीं पाया जा सकता है। हालांकि, बकरीद, ईद आदि कई त्योहारों के अवसर पर, इस बकरे की मांग काफी बढ़ जाती है।

प्रारंभिक स्तर पर यह सुविधा प्रति वर्ष लगभग डेढ़ से दो लाख रुपये है। यह लाभ हर साल बढ़ता है। जितने अधिक बच्चे बकरी को जन्म देते हैं, उतना अधिक लाभ मिलता है।

 मार्केटिंग

Goat Farming को चलाने के लिए मार्केटिंग बहुत महत्वपूर्ण है। इसलिए, आपको अपने व्यवसाय को डेयरी फार्म से मांस की दुकान तक ले जाने की आवश्यकता है। आप अपने बकरी से प्राप्त दूध को विभिन्न डेयरी फार्मों में स्थानांतरित कर सकते हैं।

इनके अलावा, आप मीट की दुकानों में इन बकरियों को बेचकर अच्छा लाभ कमा सकते हैं। भारत में बड़ी संख्या में लोग मांस खाते हैं। तो यह आसानी से मांस बाजार में कारोबार किया जा सकता है।

यहाँ और पढ़ें : online-business-ideas-for-beginners

यहाँ और पढ़ें : beauty-parlour

Leave a Reply

Your email address will not be published.