Hath Ki Rekha Ka Bhavishya In Hindi

हाथ की रेखा (Hath ki rekha) को भारतीय ज्योतिष का एक प्रमुख अंग माना जाता है। प्राचीन काल से ही इस विद्या का बहुत महत्व रहा है।

ऐसा माना जाता है कि जो व्यक्ति हाथ की रेखा का ज्ञान प्राप्त कर लेता है वह भविष्य में होने वाली घटनाओं को किसी के भी हाथ को देखकर जान सकता है। हाथ की रेखा की दुनिया में सबसे बड़ा नाम काइरो है और भारत में हाथ की रेखा की अधिकांश पुस्तकें केवल कीरो में ही उपलब्ध हैं।

कीरो ने वैज्ञानिक पद्धति से भविष्य की गणना शुरू की, जो बहुत सटीक है और भारतीय ज्योतिष के ऋषि भी कीरो को अपना आदर्श मानते हैं।

Hath ki rekha ka bhavishya se badlen kismet

राजनेताओं या बड़े सितारों के हाथों कलाकारों को आसानी से देखा जा सकता है। लेकिन यह रेखा हाथ में नहीं होती, इसी से पता चलता है व्यक्ति किस स्थिति में जाएगा और किस स्थिति में नौकरी मिलेगी।

इसी प्रकार रेखा या तालु पर सूर्य रेखा का न होना अशुभ माना जाता है। हर किसी को सफलता नहीं मिलनी है। जिनके हाथ में सूर्य रेखा नहीं है उन्हें सूर्य देव की पूजा करनी चाहिए, जल देना चाहिए। इसके अलावा शिवलिंग पर जल चढ़ाने और पीली वस्तु का दान करने से भी उसे लाभ हो सकता है.

Hath ki rekha gyan in hindi with picture

हाथ की रेखा ज्ञान हिंदी को विज्ञान में दो अंतर माना जाता है। जहां हाथ की रेखाएं किसी व्यक्ति के अतीत और भविष्य की घटनाओं का आकलन करने में सहायक होती हैं, वहीं हाथ और उंगलियों की बनावट किसी व्यक्ति की प्रकृति, उसके कार्यस्थल आदि का आकलन करने में मदद करती है।

यहाँ और पढ़ें : surya-namaskar-kya-hai

Hath ki Rekha Gyan in Hindi with Image

(1) जीवन रेखा: यह रेखा जीवन रेखा शब्द से निकली है। जीवन रेखा अंगूठे और तर्जनी के बीच से शुरू होकर हथेली के आधार तक जाती है।

जीवन रेखा जितनी लंबी और साफ होती है, व्यक्ति का जीवन उतना ही लंबा होता है, यदि जीवन रेखा धुंधली हो या बीच में कहीं टूटी हो, तो यह अल्प जीवन या स्वास्थ्य की हानि का आभास देती है।

यदि जीवन रेखा स्पष्ट होकर तालू के आधार तक जाती है, तो व्यक्ति स्वस्थ जीवन व्यतीत करता है, जबकि अस्पष्ट और टूटी हुई रेखा आयु अवरोध का आभास देती है।

(2) हृदय रेखा: यह रेखा छोटी उंगली (कनिष्क) के नीचे से शुरू होकर तर्जनी के मध्य तक जाती है। यह रेखा व्यक्ति के स्वभाव को दर्शाती है। हृदय रेखा जितनी लंबी होती है, उतना ही मृदुभाषी, सरल और लोकप्रिय व्यक्ति समाज में होता है और निजी जीवन में गरिमा और सम्मान के साथ रहता है।

इन लोगों के मन में धोखे और धोखे कम ही पाए जाते हैं और ये आत्मसंतुष्ट प्रकृति के होते हैं। जिनकी हृदय रेखा छोटी होती है उनमें असंतुष्ट, चिड़चिड़े, शंकालु और समाज से दूर रहने की प्रवृत्ति होती है। ऐसे लोग छोटे दिमाग के होते हैं और किसी पर जल्दी भरोसा नहीं करते। आमतौर पर ऐसे व्यक्ति क्रूर स्वभाव के होते हैं।

(3) मस्तिष्क रेखा: यह रेखा तर्जनी के नीचे से शुरू होकर जीवन रेखा के शुरुआती बिंदु से शुरू होती है और सबसे छोटी उंगली कच्छ के नीचे हथेली तक जाती है, कुछ लोगों के हाथों में यह रेखा ठोड़ी तक पहुंचने से पहले ही समाप्त हो जाती है। इसे हेडलाइन कहते हैं। मस्तिष्क रेखा जितनी लंबी होगी व्यक्ति का मानसिक संतुलन उतना ही बेहतर होगा।

ऐसे लोग किस्मत से ज्यादा मेहनत पर विश्वास करते हैं। इन लोगों की याददाश्त बहुत अच्छी होती है और ये हर काम के बारे में सोचते हैं। इस प्रकार के लोगों से हमेशा कुछ न कुछ सीखने का आग्रह किया जाता है।

जहां छोटे दिमाग वाले लोग, इसके विपरीत, जल्दी में रहते हैं, कार्रवाई के बजाय भाग्य पर विश्वास करते हैं, और जल्दबाजी में निर्णय लेते हैं। जिसके लिए उन्होंने बाद में खेद जताया था।

(4) भाग्य रेखा: यह रेखा मध्यमा और अनामिका से होते हुए हाथ की हथेली तक जाती है। यह रेखा हर व्यक्ति के हाथ में नहीं होती है। भाग्य की रेखा जितनी स्पष्ट होती है, व्यक्ति का जीवन उतना ही आसान होता है, वहीं जिस व्यक्ति के हाथ में यह रेखा धुंधली या टूटी होती है, वह जीवन में थोड़ा संघर्ष करता है और जिस व्यक्ति के हाथ में यह रेखा नहीं होती है, यह मदद करता है। इसका मतलब है कि इस प्रकार का व्यक्ति मेहनती, मेहनती और जीवन संघर्षों से घिरा होता है। भाग्य रेखा की व्याख्या भी मुख्य रेखा पर बहुत कुछ निर्भर करती है।

यहाँ और पढ़ें : kundali-kaise-banaye-in-hindi-janam-kundali-kaise-banaye

यहाँ और पढ़ें : kohinoor-diamond-of-india-history-in-hindi

(5) सूर्य रेखा: यह रेखा सभी लोगों के हाथ में नहीं होती है। यह रेखा चंद्र पर्वत से शुरू होकर तीसरी उंगली की अनामिका तक जाती है। जिसके हाथ में यह रेखा होती है वह निडर, स्वाभिमानी, दृढ़ इच्छाशक्ति वाला होता है। इस प्रकार के व्यक्ति जीवन में कभी हार नहीं मानते और नेतृत्व पसंद करते हैं।

(6) स्वास्थ्य रेखा: यह रेखा छोटी उंगली से शुरू होकर हाथ की हथेली तक जाती है। यह रेखा व्यक्ति के स्वास्थ्य का सूचक होती है।

(7) शुक्र वलय: यह रेखा कनिष्क और अनामिका के मध्य से शुरू होकर तर्जनी और अनामिका के मध्य तक चंद्रमा के आकार में चलती है। यह रेखा आमतौर पर विलासितापूर्ण जीवन जीने वालों में पाई जाती है। ऐसे लोग कामुक, महंगे और भौतिकवादी होते हैं।

आइए जानते हैं छोटी रेखाओं के बारे में-

(1) मंगल रेखा: यह रेखा जीवन रेखा बुद्धिमान होगा, जो हर कार्य के बारे में सोचेगा। ऐसे लोग अपने लक्ष्य के लिए बहुत संघर्ष करते हैं जब वे किसी काम को करने और उसे छोड़ देने का फैसला करते हैं।

(2) चंद्र रेखा: यह रेखा जुनिपर और अनामिका के बीच से गुजरती है और मैंडिबुलर में उतरती है। यह रेखा धनुषाकार है। इस रेखा को प्रेरक रेखा भी कहते हैं। जिस व्यक्ति के हाथ में यह रेखा होती है वह हमेशा अपने सुधार में लगा रहता है। इस प्रकार का व्यक्ति बहुत कुशल होता है और जल्दी से लोगों के साथ घुलमिल जाता है।

(3) विवाह रेखा: इसे प्रेम रेखा भी कहते हैं। ये रेखाएँ जितनी स्पष्ट होंगी, व्यक्तिगत संबंध उतने ही महत्वपूर्ण होंगे।

(4) निकृष्ट रेखा: यह रेखा उदास रेखा होती है, इसलिए इसे अशुभ रेखा कहते हैं। यह चंद्र रेखा की ओर से चलकर स्वास्थ्य रेखा के साथ चलकर शुक्र स्थान में प्रवेश करता है।

Hath ki rekha Marriage Line

विवाह रेखा कनिष्ठ यानि बुध पर्वत पर सबसे छोटी उंगली होती है और इसका निचला भाग थोड़ी टेडी पोजीशन यानि ऑडी पोजीशन में पाया जाता है। इस रेखा से हमें विवाह की जानकारी मिल सकती है।

इन रेखाओं के बीच सबसे गहरी रेखा स्पष्ट विभाजन की रेखा होगी। यानि कि उस व्यक्ति के साथ बहुत सारे रिश्ते बन चुके होते हैं, प्रेम संबंध भी उसमें आ जाते हैं, इसीलिए कई लोगों के जीवन में यह समस्या आती है कि उनका प्रेम संबंध है लेकिन उनका विवाह नहीं हो सका, तो इसका कारण यह है कि उस समय उनकी विवाह रेखा समय स्पष्ट नहीं था।

Hath ki rekha for Job

हिंदू ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुछ ऐसे रहस्य हैं जिन्हें हम पढ़कर या देखकर ही जान सकते हैं। हाथ की रेखा ज्योतिष का विषय है कि यदि हमारे पास किसी व्यक्ति की जन्म कुंडली नहीं है तो हम ताल रेखा के माध्यम से उसका भविष्य बता सकते हैं और सबसे बड़ी बात यह है कि किसी भी रेखा की हाथ की रेखा का महत्व है।

यह सबसे बड़ी चीज है जो किसी व्यक्ति के जीवन को प्रभावित कर सकती है। जैसे कई लोगों को यह समस्या होती है कि उन्हें काम नहीं मिल रहा है, अगर आप इसे करते हैं, तो यह टिकता नहीं है, नौकरी में मन नहीं लगता है, ऐसी बहुत सारी समस्याएं हैं।

अंतिम

Hath ki rekha ka bhavishya in hindi पर आर्टिकल में आप प्रमुख रेखाओं से संबंधित मूल रेखा से मनुष्य के स्वभाव और हाथ की बनावट पर उनके प्रभाव का अंदाजा आसानी से लगा सकते हैं।

यदि आप Hath ki rekha का ज्ञान प्राप्त करना चाहते हैं तो यह आर्टिकल आपके आरंभिक ज्ञान को बढ़ाएगा। यदि आप Hath ki rekha gyan in hindi सीखना चाहते हैं तो हाथ की रेखा ज्ञान पुस्तक खरीदकर संपूर्ण ज्ञान प्राप्त कर सकते हैं।

यहाँ और पढ़ें : Full Form Of INDIA – इंडिया का फुल फॉर्म क्या है – INDIA के अन्य नाम

यहाँ और पढ़ें : Lifestyle Tips in Hindi – बेहतर और हेल्दी जीवन के लिए टिप्स

Leave a Reply

Your email address will not be published.